blogid : 12846 postid : 902300

इस 11 साल की अनाथ बच्ची ने किया ऐसा काम कि लेना चाहता है हर कोई गोद

Posted On: 9 Jun, 2015 social issues में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

आधुनिकता की ओर बढ़ते कदम और तकनीक के साथ तालमेल ने हमारी जिंदगी को सहज, शिष्ट और स्टाइलिश बना दिया है, इसके बावजूद आज भी हम अपनी दकियानुसी सोच में लचक पैदा नहीं कर पाए हैं. खासकर महिलाओं के प्रति हमारी सोच भारत और पाकिस्‍तान के बीच रिश्‍तों में कड़वाहट की तरह है जो कभी समाप्त नहीं हो सकती. ऐसे समाज में एक 11 साल की आदिवासी बच्ची अपने मजबूत इरादों के साथ हर विपत्ति का सामना करते हुए आगे बढ़े, यह सचमुच में उन लोगों को तमाचा है जो गाहे बगाहे कह देते हैं ‘लड़की है इसके बस का कुछ नहीं है’.


Sombari Sabar



सोम्बरी सबर नाम की यह बच्ची पांचवी कक्षा में पढ़ती है. खास बात यह कि वह लकड़ी बेचकर अपना घर चलाती है और नियमित रूप से रोजाना स्कूल भी जाती है. दरअसल जब सोम्बरी छोटी थी तब टीबी की बीमारी से उसकी मां का निधन हो गया और उसके पिता रतन सबर भी हाल ही में दुनिया को छोड़ चले.


Read: मेंढक की वजह से गर्भवती हुई महिला! दिया मेंढक की तरह दिखने वाले बच्चे को जन्म


घर में आई ऐसी विपत्ति में सोम्बरी को पीड़ा तो बहुत हुई लेकिन उसका हौसला एक चट्टान की तरह टस से मस नहीं हुआ. माता-पिता के निधन के बाद सगे-संबंधियों में ऐसा कोई नहीं था जो उसकी सहायता करे. वह अकेले टूटे-फूटे इंदिरा आवास के एक घर में रहती है और अपना गुजर बसर करने के लिए जलने वाली लकड़ी बेचती है.


Tata-Steel


पांचवी कक्षा में पढ़ने वाली सोम्बरी एक दिन भी क्लास नहीं छोड़ती. वह कभी फेल नहीं हुई. सोम्बरी का कहाना कि मेरे पिता का सपना मुझे शिक्षित बनाना था. असम के दुमुरिया की रहने वाली सोम्बरी ने अपनी जिंदादिली का परिचय सबसे कराया जिससे प्रभावित होकर लोगों ने उसकी सहायता करनी चाही.


Read: मेंढक की वजह से गर्भवती हुई महिला! दिया मेंढक की तरह दिखने वाले बच्चे को जन्म


उसका हौसला और पढ़ने की लगन को जब गैर सरकारी और निजी संगठनों ने देखा तो उसकी सहायता करने के लिए आगे आए. यही नहीं, टाटा स्टील और आनंद मार्ग आश्रम उसे गोद लेना चाहते हैं. सोम्बरी का परिश्रम और लगन को देखकर एक शिक्षक जोड़े ने तो उसे अपने घर में जगह देने की इच्छा जाहिर की. जिला बाल संरक्षण अधिकारी चंचल कुमार भी सोम्बरी से उसके घर जाकर मिले और उसे एक नया घर देने का निर्णय लिया…Next


Read more:

प्रकृति का अजूबा……इस जगह खिलती है महिला के आकार की फूल

पोते को अपने गर्भ से जन्म देने के लिए महिला पहुंची कोर्ट में

…और इस तरह यह महिला बन गई अपने ही भाई-बहन की मां



Tags:                 

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

1 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

hirendra kumar के द्वारा
June 10, 2015

acchi खबर देते ho thanks news


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran