blogid : 12846 postid : 735453

एक हत्यारिन की किस्मत लिखी मौत के फरिश्ते ने, चौंकिए मत! यह एक हकीकत है

Posted On: 23 Apr, 2014 social issues में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

चौंकिए मत! यह एक हकीकत है. फरिश्ते हमेशा बचाने के लिए नहीं, मारने के लिए भी आ सकते हैं. पर वह फरिश्ता कैसे हुए? हुए! क्योंकि उसने ही आकर किसी के अन्दर की जादुई ताकत का उसको एहसास कराया. कहने को तो कुछ भी कह सकते हैं पर करना उतना ही मुश्किल होता है, कहना जितना आसान लगता है. फिर भी अगर बुद्धिजीवियों ने आसमान में सुराख कर सकने की बात कही होगी तो कुछ तो सच होगा. इस औरत को देखिए, मौत के फरिश्तों और औरतों को लाचार समझने की आपकी सोच बदल जाएगी, ऐसा हमारा दावा है.


true inspirational story



ऐसे देखा जाए तो सुसान वाल्टर्स एक बहुत ही साधारण महिला हैं. ऐसी कोई असाधारण उपलब्धि नहीं है उनकी जिसके लिए लोग उनको याद करें. फिर भी सुसान आज खबरों में हैं इसका एकमात्र कारण है सुसान का महिला होना. सुनकर थोड़ा अजीब लग सकता है कि सिर्फ एक महिला होने के कारण कोई सुर्खियों में क्यों है? महिलाएं दुनिया में कोई अजूबा जीव तो हैं नहीं. जी हाँ, सच है कि महिलाएं दुनिया का अजूबा नहीं हैं और न ही सुसान इस तरह कोई अजूबा हैं पर सुसान ने वह कर दिखाया है जो साधारण रूप से कोई महिला नहीं कर सकती. शायद सुसान की जगह वहां कोई और औरत होती तो लाचार नारी पर अत्याचार होने की एक और साधारण कहानी बन चुकी होती (महिलाओं पर अत्याचार दुनिया के लिए बहस और संवेदना का मुद्दा हो सकता है लेकिन कोई असाधारण कहानी नहीं).


Susan Walters

एक अनपढ़ महिला जो पूरे गांव की मसीहा बन गई


अगर आपको लगता है कि सिर्फ भारत में महिलाओं पर अत्याचार होता है तो आपको यह जरूर पढ़ना चाहिए. पोर्टलैंड की सुसान वाल्टर्स की यह कहानी उस महिला को पढ़नी चाहिए जो कभी अपने पति से, कभी राह चलते लफंगों, कभी रिश्तेदारों, तो कभी किसी और से प्रताड़ित होने की बात करती हैं. सुसान का अपने पहले पति से तलाक हो चुका था. किन्हीं कारणों से सुसान के पति ने उसे मारने के लिए खरीदे हुए बदमाशों को भेजा. सुसान तभी घर में अकेली थी. गुंडे उसके घर में घुसे और उसका गला एक बदमाश के हाथों में दबा हुआ था. उसे लगा अब उसका मरना तय है लेकिन उसने हार नहीं मानी. पलट कर उसने गुंडों पर वार किया, उनसे अपने असली हमलावर का नाम पूछा और उन्हें मौत के घाट उतार दिया. कहानी कुछ और होना था पर सुसान के बदले उसे मारने आए गुंडे मरे पड़े थे. यह सुसान की दिलेरी का कमाल था.


The lady hit her attacker


किसी से सुना होगा कि डरने वालों को और डराया जाता है. महिलाओं के कमजोर हालात और उनकी सुरक्षा पर सरकारी, गैर सरकारी तौर पर कई प्रयास किए जाते हैं, तमाम तरह की बातें की जाती हैं. किसी जगह अगर वे बातें होती हैं तो नि:संदेह महिलाएं सुरक्षित होंगी पर इन सबमें एक बात जो सबसे जरूरी है वह है अपने लिए महिलाओं की खुद की सोच बदलने की. महिलाओं की दशा सुधारने के लिए महिलाओं के लिए समाज की सोच में बदलाव लाना बेहद जरूरी है पर साथ ही यह भी एक बड़ा सच है कि इससे भी पहले अपने लिए महिलाओं की खुद की सोच बदलनी जरूरी है. हिन्दी में एक कहावत है ‘मन के हारे हार है’. जिस तरह सुसान ने किया अगर हर महिला खुद को लाचार समझकर बने हुए खराब हालात पर खुद को छोड़ देने की बजाय उससे निपटने में खुद को सक्षम समझने लगे और उससे निपटने में अपनी कोशिशें लगाने लगे तो ही महिलाओं की दशा सुधर सकती है और हकीकत में महिलाएं कमजोर कहलाने से उबर सकती हैं.

महिलाओं को सुरक्षित कैसे करें

एक बाप ने बदल दी गांव के बेटियों की तकदीर

जहर पीना शौक है इनका

Web Title : women empowerment true inspirational story



Tags:                     

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran